Blog

बनारस “का’बा-ए-हिंदोस्तान। गालिब की नज़रों से बनारस

बनारस “का’बा-ए-हिंदोस्तान। गालिब की नज़रों से बनारस

फिल्म बनारस का’बा–ए–हिंदोस्तान मेरी सबसे पंसीदीदार फिल्म है। बनारस आज विश्वप्रसिद्ध शहर है, ये एक ऐसा शहर है जो यहां एक बार आता है बस यही का होकर रह जाता है। जब गालिब बीमारी की हालत में बनारस के घाट पर उतरे तो बनारस की रौनक, रंगत, घाटों की चहल-पहल और स्वच्छ आबो-हवा को महसूसRead more about बनारस “का’बा-ए-हिंदोस्तान। गालिब की नज़रों से बनारस[…]

युनीफोर्म का रंग भले ही अलग – किंतु मकसद एक !! देश की सुरक्षा !!!

युनीफोर्म का रंग भले ही अलग – किंतु मकसद एक !! देश की सुरक्षा !!!

भारत देश, जिसकी सभ्या-संस्कृति की पहचान पूरे विश्व में प्रसिद्ध हैं. पांच हजार पुरानी जिस देश की जीवंत संस्कृति हो, यहां अलग-अलग धर्म के लोग मिलजुल कर रहते हों, यहां प्राचीन संस्कृति उसकी पहचान हो, यहां इतिहासिक ईमारतें अपनी गाथा खुद से गायें, मंगल यान हो या मेक-इन-इंडिया, इसकी छाप आज पूरे विश्व में दर्जRead more about युनीफोर्म का रंग भले ही अलग – किंतु मकसद एक !! देश की सुरक्षा !!![…]